Masik Kalashtmi 2022 : जानिए कब है मासिक कालाष्टमी ,ज़रूर करे यह उपाय।

आज मासिक कालाष्टमी का शुभ दिन है। हिंदू शास्त्रों के अनुसार इस दिन भगवान शिव के रुद्र स्वरूप काल भैरव के निमित्त पूजा और उपवास करने का विधान है। वैसे तो बाबा भैरव के 8 स्वरूप माने गए हैं लेकिन बटुक भैरव स्वरुप को सौम्य कहा जाता है। गृहस्थ व अन्य सभी साधारणजन को बाबा के इसी रुप की पूजा करनी चाहिए। ऐसा करने से जीवन के सभी कष्ट दूर होते हैं।

भगवान शिव के रूप बाबा काल भैरव को तंत्र मंत्र का देवता माना जाता है। इनकी पूजा रात्रि प्रहर में किये जाने विधान है। इसलिए भक्त इनकी पूजा रात्रि में करते हैं. पंचांग के अनुसार, चूंकि रात्रि प्रहर की पूजा का मुहूर्त 20 जून को प्राप्त हो रहा है। ऐसे में आषाढ़ माह की कालाष्टमी व्रत 20 जून को रखी जायेगी।

  • इस दिन बाबा काल भैरव के वाहन कुत्ते को खाना खिलाने की प्रथा है। मान्यता है कि कालाष्टमी के दिन भगवान भैरव को प्रसन्न करने के लिए काले कुत्ते को मीठी रोटी जरूर खिलानी चाहिए। यदि काला कुत्ता उपलब्ध न हो तो किसी भी कुत्ते को खिला कर यह उपाय कर सकते हैं। इस दिन कुत्तों की सेवा करना पुण्य का काम होता है। इस उपाय को करने से न सिर्फ भगवान भैरव बल्कि शनिदेव की भी कृपा बरसती है और हर काम बिना किसी बाधा के पूरा हो जाता है।
  • इसके अलावा कालाष्टमी के दिन भैरव देव की कृपा पाने के लिए किसी जरूरतमंद व्यक्ति या भिखारी को वस्त्र दान करें। इस उपाय को करने से आपको कार्यक्षेत्र में तरक्की में मिलेगी।
  • कालाष्टमी के दिन से लेकर 40 दिनों तक लगातार काल भैरव के दर्शन करें। इस उपाय को करने से भगवान भैरव प्रसन्न होंगे और आपकी मनोकामना को पूर्ण करेंगे। भैरव की पूजा के इस नियम को चालीसा कहते हैं।
  • मान्यता है कि कालाष्टमी के दिन काल भैरव की पूजा-अर्चना करने से व्यक्ति को सभी प्रकार के भय से मुक्ति मिलती है व शुभ फलों की प्राप्ति होती है।

अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क करे :8800983396