SAVAN SHIVRATRI 2020 : कल है सावन शिवरात्रि जानें जलाभिषेक के लिए उत्तम समय और विधि |

19 जुलाई को मासिक शिवरात्रि है|वान मास में इस शिवरात्रि का विशेष महत्व माना गया है| सावन मास में शिव की पूजा करने से बाधाएं समाप्त होती है और जीवन में सुख समृद्धि आती है| मान्यता है कि चातुर्मास में भगवान शिव पृथ्वी का भ्रमण करते हैं और अपने भक्तों की खबर लेते हैं| उनके कष्टों को दूर करते हैं और अपना आर्शीवाद प्रदान करते हैं| इसलिए सावन में पड़ने वाले सोमवार पर भगवान शिव की विशेष पूजा की जाती है|

KRISHNASTROSOLUTIONS

शिवरात्रि पूजा मुहूर्त:

चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ – जुलाई 19, 2020 को 12:41 AM बजे
चतुर्दशी तिथि समाप्त – जुलाई 20, 2020 को 12:10 AM बजे
निशिता काल पूजा समय – 12:07 AM से 12:10 AM बजे

KRISHNASTROSOLUTIONS

सावन शिवरात्रि पूजा विधि:

  • सावन शिवरात्रि के दिन सुबह स्नान करने के बाद घर के मंदिर में दीप जलाएं।
  • अगर आपके घर में शिवलिंग है तो शिवलिंग का गंगा जल से अभिषेक करें।
  • गंगा जल न होने पर आप साफ पानी से भी भोले बाबा का अभिषेक कर सकते हैं।
  • जिनके घर में शिवलिंग नहीं है वो भोले बाबा का ध्यान करें।
  • भगवान शिव की आरती करें।
  • भगवान शिव के साथ माता पार्वती की आरती भी करें।
  • इस दिन अपनी इच्छानुसार भगवान शंकर को भोग लगाएं।
  • भगवान को सात्विक आहार का ही भोग लगाएं।
  • भोग में कुछ मीठा भी शामिल करें।

KRISHNASTROSOLUTIONS

सावन शिवरात्रि व्रत में इन बातों का रखें ध्यान:

ध्यान रहे शिवरात्रि के दिन काले वस्त्र धारण न करें और न ही खट्टी चीजों का सेवन करें। पूरा दिन व्रत कर शाम को भगवान शंकर और माता पार्वती की पूजा करने के साथ आरती गाए और दीप जलाने के बाद व्रत को खोलें। इस दिन घर में मांस मदीरा न लाएं।

अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क करे : 9821314408, 9821314409