कुंडली में कालसर्प दोष के संकेत, असर और उपाय |

जब किसी व्यक्ति का अच्छा समय चल रहा होता है तो उसको चारों तरफ से शुभ समाचार ही प्राप्त होते हैं। लेकिन जीवन में हर समय एक जैसा नहीं होता कभी अच्छा तो कभी बुरा समय आती ही है। जब बुरा समय चल रहा होता है तो असफलता, बीमारियां और तनाव बढ़ जाता है। ज्योतिष में इसका कारण कुंडली में दोष का होना बताया जाता है। कालसर्प दोष इन्हीं में से एक दोष होता है। कालसर्प योग के कारण सूर्यादि सप्तग्रहों की शुभफल देने की क्षमता समाप्त हो जाती है। इससे जातक को 42 साल की आयु तक परेशानियां झेलनी पड़ती है। लेकिन दूसरी तरफ किसी की कुंडली में कालसर्प योग होने के बाद भी जातक की उन्नति होती है। आइए जानते है किन परिस्थितियों में कालसर्प योग का असर होता है और किसमें नहीं।

krishnastrosolutions

ज्योतिष में कालसर्प योग:

  • जब राहू और केतु के बीच अन्य ग्रहों की उपस्थिति हो तब कालसर्प योग का असर होता है। वहीं जब केतु और राहु के बीच ग्रहों की उपस्थिति हो तब इस योग का असर नहीं होता है।
  • लग्न या चन्द्रमा राहु अथवा केतु के नक्षत्र में यानि आर्द्रा, स्वाती, शतभिषा, अश्विनी, मघा , मूल में हो  तो तब यह अधिक प्रभावी होता है।
  • राहु की शनि, मंगल अथवा चन्द्रमा के साथ युति हो तो यह योग अधिक प्रभावी होता है।
  • अनन्त, तक्षक एवं कर्कोटक संज्ञक कालसर्प योग में क्रमश लग्नेश, पंचमेश, सप्तमेश एवं लग्नेश की युति राहु के साथ हो तो यह योग अधिक प्रभावी होता है।
  • कालसर्प योग के साथ-साथ शकट,केमदूम एवं ग्रहों की नीच अस्तंगत, वक्री स्थिति हो तो कालसर्प योग अधिक प्रभावी होता है।
  • जन्म लेने और फिर उसके बाद करियर के निर्माण के समय यदि राहु की अथवा इससे युति ग्रह की अथवा राहु के नक्षत्र में स्थित ग्रह की दशा हो तो कालसर्प योग का असर अधिक होता है।

krishnastrosolutions

कालसर्प दोष के संकेत:

  • जिस व्यक्ति की कुंडली में कालसर्प दोष होता है, उसके बुरे सपने आने लगते हैं।
  • ऐसे व्यक्ति को अकारण मन में डर बना रहता है।
  • कालसर्प दोष से प्रभावित व्यक्ति को सपने में सांप दिखाई देते हैं।
  • अपने पास किसी के खड़े होने का एहसास होता है।
  • काम बनते-बनते रह जाता है, कड़ी मेहनत के बाद भी सफलता नहीं मिल पाती।
  • घर-परिवार और कार्य स्थल पर अनचाहे वाद-विवाद होते रहते हैं।
  • गंभीर बीमारी लग जाती है और इलाज के बाद भी राहत नहीं मिलती।

krishnastrosolutions

उपाय:

  • कालसर्प दोष से प्रभावित व्यक्ति को भगवान शिव की पूजा नियमित करनी चाहिए।
  • हर शनिवार पीपल के पेड़ को जल चढ़ाकर सात परिक्रमा करें।
  • गरीबों को काले कंबल का दान करें।
  • किसी पवित्र नदी में चांदी या तांबे से बना नाग-नागिन का जोड़ा प्रवाहित करें।

कालसर्प दोष की सिद्धि के लिए अपनी कुंडली का विश्लेषण करवाकर उपाए करे|

अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क करे :9810527992 ,9821314408